नींद में कमी होने से आंखों संबंधी पांच बीमारियां | Five Diseases due to sleep disorders in Hindi

नींद में कमी होने से आंखों संबंधी पांच बीमारियां | Five Diseases due to sleep disorders in Hindi

नींद में कमी होने से आंखों संबंधी पांच बीमारियां | Five Diseases due to sleep disorders in Hindi

आजकल हमारी लाइफ इतनी व्यस्त होती जा रही है कि हमारी नींद ठीक तरह से पूरी नहीं होती। नींद पूरी न होने से न केवल हमारे शरीर पर बुरा असर पड़ता है बल्‍कि दिमागी रूप से भी असर पड़ता है। अगर आप यह सोचते हैं कि आंखें बंद करते ही हमारे शरीर के दूसरे अंग भी काम करना बंद कर देते हैं तो आपको बता दें कि ऐसा नहीं है.
अच्छी और पर्याप्त नींद के अभाव में स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है. जो लोग नाइट शिफ्ट की जॉब करते हैं उन्हें हमेशा कोई न कोई स्वास्थ्य समस्या बनी ही रहती है.

अच्छी और पर्याप्त नींद न मिलने से हो सकती हैं ये पांच बीमारियां

खराब नींद लेने का असर मानसिक स्थिति पर भी पड़ता है, इसके अलावा शरीर में दर्द, थकान, वजन बढ़ना और तनाव जैसी कई समस्याएं हो जाती हैं। अच्छी और पर्याप्त नींद न मिलने से हो सकती प्राय: मधुमेह, ऑस्ट‍ियोपोरोसिस, कैंसर, हार्ट अटैक और. मानसिक स्थिति पर गहरा असर होता है ।

1. मधुमेह: अच्छी नींद नहीं मिलने पर शुगर से भरपूर और जंक फूड खाने की इच्छा बढ़ जाती है. अपर्याप्त नींद से न केवल मधुमेह बढने का खतरा ज्यादा हो जाता है बल्कि इससे कई गंभीर बीमारियां, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, तनाव, दिल की बीमारियां, तनाव और याद्यास्त कम होने जैसी कई समस्याएं शुरू हो जाती हैं।

2. ऑस्ट‍ियोपोरोसिसअच्छी नींद नहीं लेने की वजह से हड्डियां कमजोर होना शुरू हो जाती हैं. इसके अलावा हड्डियों में मौजूद मिनरल्स का संतुलन भी बिगड़ जाता है. इसके चलते जोड़ों के दर्द की समस्या पैदा हो जाती है.

3. कैंसर: कई शोधों में ये बात सामने आई है कि कम नींद लेने की वजह से ब्रेस्ट कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है, साथ ही शरीर में कोशिकाओं को भी काफी नुकसान होता है.

4. हार्ट अटैक: हार्ट अटैक की एक ओर चेतावनी है आपकी नींद में खलल पड़ते रहना। आपका सबकाॅऩ्शियस माइंड आपको कहता रहतो है कि कुछ गड़बड़ है। आप रात में बार-बार जागते हैं, बार-बार बाथरूम जाना पड़ता है या रात में जोर से प्यास लगती रहती है। अगर आपको नींद की इस परेशानी का तार्किक कारण न पता हो तो डाॅक्टर से सलाह लें।

5. मानसिक स्थिति पर असर: नींद की कमी मानसिक तनाव के कारण हो सकती है , और मानसिक तनाव भी नींद की कमी से हो सकता है| तनाव के सम्बंध में नींद का बहुत महत्त्व है | प्रत्येक व्यक्ति के मस्तिष्क में एक छोटी-सी ग्रंथि होती है, जिसे चिकित्साविज्ञान की भाषा में मेलाटॉनिन (Melatonin) कहा जाता है। यह ग्रंथि अँधेरे में सक्रिय होती है और एक ऐसा हार्मोन उत्पन्न करती है, जो नींद लाने में सहायक होता है ध्यान रखें- सोने से पहले अपने कमरे की बत्तियाँ बुझा दें। हमेशा अँधेरे में सोने की आदत डालें।

इस लेख में आपने जाना नींद में कमी होने से आंखों संबंधी पांच बीमारियां। दोस्तों आँखों में दर्द का इलाज, SwyamUpchar, Know 5 Diseases due to sleep disorders in Hindi का ये लेख आपको कैसा लगा हमें बताये और अपने मित्रों के साथ भी शेयर करे

Related:-Adhi raat ko neend khulne ki vajah or samadhan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *