Welcome to swyamupchar.in

मानसिक रोग इसके प्रकार, इसके लक्षण और कारण ।


हमारे शरीर से कहीं अधिक जटिल हमारा मन है। शायद यही कारण है कि हम मन को समझने में अकसर भूल करते हैं। मानसिक रोग को अंग्रेजी भाषा में मेंटल दिसोडर भी कहते है | इस बीमारी में मनुष्य की मानसिक स्थिती सामान्य नहीं रहती | एक मानसिक बीमारी आपको बहुत दुखी कर सकती है और अपने दैनिक जीवन में समस्याएं पैदा कर सकती है, जैसे कि स्कूल या काम या रिश्तों में समस्याएं। इस बीमारी में मनुष्य दूसरे व्यक्ति के साथ उचित तरीके से व्यवाहर नहीं करता | दुनिया में ज्यादातर लोग मानसिक रोगों से ग्रसित होते हैं। मस्तिष्क से जुड़े रोगों को मानसिक रोग कहते हैं। इनके विभिन्न प्रकार होते हैं, जो आपको विभिन्न परीस्थितियों में प्रभावित करते हैं। इनके बारे में आपको जानकारी होना जरुरी होता है |
हम शरीर दर्द को तो आसानी से समझ लेते हैं और हम उसका जल्द ही इलाज भी शुरू कर देते हैं, लेकिन मन के दर्द को अक्सर नजरअंदाज कर देते हैं, और जब हम मन के दर्द को महसूस करते हैं, तब तक काफी देर हो चुकी होती है। और वो किसी मानसिक रोग में बदल जाती है |

निम्नलिखित लक्षण दर्शाते हैं कि आप या आपके प्रियजन को मानसिक रोग है

  • उदास महसूस करना।
  • व्याकुल होना या ध्यान केंद्रित करने की क्षमता में कमी।
  • साइकोटिक डिसऑर्डर
  • अत्यधिक भय या चिंताएं या अपराध की भावनाएं महसूस करना।
  • ईटिंग डिसऑर्डर
  • मनोदशा में अत्यधिक परिवर्तन।
  • पर्सनालिटी डिसऑर्डर
  • दोस्तों और अन्य गतिविधियों से अलग होना।
  • पैनिक डिसऑर्डर
  • थकान, कम ऊर्जा या सोने में समस्याएं।
  • वास्तविकता से अलग हटना (भ्रम), पागलपन या मतिभ्रम।
  • मूड डिसऑर्डर

इन सबके अलावा और भी बहुत सारे गम्भीर मानसिक रोग होते है, लेकिन पक्के तौर पर यह कहना की ये लक्षण इस मानसिक रोग के है

मानसिक रोग के मुख्य कारण :

  • कोई व्यक्ति किसी दुर्घटना या किसी अपने की अकाल मौत के कारण सदमे से मानसिक रोग में घिर सकता है या हमेशा के लिए मानसिक संतुलन खो सकता है, लेकिन कोई व्यक्ति ऐसे दुःख को आराम से झेल जाता है।
  • महिलाओं में मानसिक बीमारियाँ पुरुषों की तुलना में दो से तीन गुना अधिक पाई जाती है इसके प्रमुख कारण है महिलाओ में आत्मविश्वास की कमी, समाज और परिवार में उन्हें सम्मान न मिलने, उनके आत्म केंद्रित स्वभाव, घरेलू हिंसा और दुर्व्यवहार के कारण महिलाएँ डिप्रेशन का शिकार ज्यादा होती हैं।
  • मानसिक बीमारियाँ आमतौर पर किसी भी व्यक्ति को उसके जीवन के शुरू के वर्षो, खासकर किशोरावस्था व युवावस्था, में अपना शिकार बनाती हैं। हालाँकि इनसे कोई भी प्रभावित हो सकता है, लेकिन युवा और बूढ़े लोग इनसे सबसे अधिक प्रभावित होते हैं।

मानसिक रोग से जुडी अन्य महत्तवपूर्ण जानकारियां :

  • मानसिक बीमारियों की पहचान शुरुआती अवस्था में ही तो इलाज अधिक फायदेमंद साबित होता है। इलाज में शीघ्रता बरतने से दिमाग को कम नुकसान होता है और रोगी जल्दी स्वस्थ होता है।
  • मानसिक रोग का उपचार न कराने के कारण रोगी आत्महत्या करने या अकेले अलग-थलग जीवन जीने की सोच से बंध जाता है
  • मानसिक रोग से पीड़ित लोगों में यह विश्वास पैदा करना चाहिए कि मानसिक बीमारियों का उपचार संभव है। रोगियों में ऐसी उम्मीद जगाने से वे जल्दी स्वस्थ होते हैं।

बॉलीवुड हस्तियाँ जो रही है मानसिक बीमारियों का शिकार – BOLLYWOOD CELEBRITIES SUFFERED FROM MENTAL ILLNESS IN HINDI

 

 

हनी सिंह : 

हनी सिंह मशहूर गायक है, ये बाइपोलर डिसऑर्डर से होकर गुजरे है.उस समय वह अपनी चरम भावनाओ से लड़ रहे थे जिनपर उनका कोई नियंत्रण नहीं था. इस कारण वे पूरी दुनिया से दूर रहे और किसी से बात भी नहीं करते थे.

 

 

दीपिका पादुकोण :
मशहूर अभिनेत्री दीपिका पादुकोण डिप्रेशन के दौर से होकर गुजरी. एक न्यूज़ चैनल को दिए इंटरव्यू में उन्होंने बताया की इस दौरान उन्हें रोना भी आता था और खालीपन महसूस होता था. इसका इलाज करवाने के लिए वे काउंसलर और मनोचिकित्सक (psychiatrist) के पास भी गयी. इसके बाद उन्होंने लोगो के लिए मानसिक स्वास्थ्य में मदद के लिए एक फाउंडेशन (लिव लव लाफ) की शुरुआत भी की.

 

मनीषा कोइराला :
बॉलीवुड अभिनेत्री मनीषा कोइराला भी डिप्रेशन से होकर गुजरी. इन्हें क्लिनिकल डिप्रेशन था जो की अपने पति के साथ बुरे वैवाहिक जीवन के चलते हुआ. ये अभिनेत्री कैंसर से भी लड़ी. डिप्रेशन को लेकर उनका कहना है की ये हर घर मे आम बात है, लेकिन हम इसे छुपाते है और मदद मांगने आगे नहीं आते. उनका कहना है की जिस किसी को यह बीमारी होती है उसे कोई प्रोफेशनल हेल्प लेनी चाहिये.

 

शाहरुख खान :
बॉलीवुड इंडस्ट्री के किंग खान ने भी डिप्रेशन को फेस किया है. 2010 में ‘माय नेम इस खान’ की शूटिंग के दौरान उन्हें चोट लग गयी थी . इस तकलीफ से उन्हें डिप्रेशन हो गया था. लेकिन बाद में उन्होंने फिर फिर एक्टिंग शुरू की और लोगो का मनोरंजन किया.

 

आमिर खान :
बॉलीवुड के प्रसिद्ध अभिनेता आमिर खान को भी मानसिक समस्या का सामना करना पड़ा. आमिर खान PSTD ( Post Traumatic Stress Disorder) से पीड़ित हो गये थे. यह सत्यमेव जयते के आखिरी दिन शुरू हुआ और उनके साथ साथ सारी टीम को भी हो गया. इसके बाद कुछ समय तक सबका इलाज चला.

मानसिक बीमारी का इलाज :

  • रोज सुबह आँवले का मुरब्बा खाने से भी स्मरण शक्ति में वृद्धि होती है। अथवा च्यवनप्राश खाने से इसके साथ कई अन्य लाभ भी होते हैं।
  • गर्म दूध में एक से तीन पिसी हुई बादाम की गिरी और दो तीन केसर के रेशे डालकर पीने से मानसिक रोगों में लाभ होता है साथ ही स्मरणशक्ति तीव्र होती है।
  • जिन्हे मानसिक तनाव बना रहता है, उन्हें प्याज का सेवन करना चाहिए । क्योंकि प्याज में मौजूद एक विशेष रसायन मानसिक तनाव कम करने में सहायक है ।
  • चावल, फिश, बीन्स और अनाज में डग्बीफ विटामिन होता है, जो दिमागी बीमारियों और डिप्रेशन को दूर रखने में सहायक है।
    आँवले का मुरब्बा एक नग प्रतिदिन प्रातःकाल खायें । और शाम को गुलकंद एक चम्मच खाकर ऊपर से दूध पी लें । क्रोध आना बन्द होगा व मानसिक शान्ति मिलती है
Loading...

Have any Question or Comment?

Leave a Reply

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 613 other subscribers

%d bloggers like this: