ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) को अनदेखा न करें, जानें इसके होने के कारण और लक्षण in Hindi

symptoms-and-causes-of-osteoporosis-in-hindi

ऑस्टियोपोरोसिस यानी हड्डियों का कमजोर होना ऐसी समस्या है, इसमें मुख्य रूप से नितंब, कलाई और रीढ़ की हड्डियां प्रभावित होती हैं। इस रोग में हड्डियां इस हद तक कमजोर हो जाती हैं कि कुर्सी उठाने और झुकने में भी वे टूट जाती हैं। ऑस्टियोपोरोसिस एक ऐसी समस्या है, जिसका उम्रदराज लोगों को अधिक सामना करना पड़ता है। 50 साल की उम्र के बाद हर तीन में एक महिला को यह समस्या होती है। ये समस्या पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक होती है।

ऑस्टियोपोरोसिस – Osteoporosis के कारण

  •  जिनेटिक फैक्टर
  • प्रोटीन और कैल्शियम की कमी
  • फिजिकली ज्यादा एक्टिव न होना
  • बढ़ती उम्र
  • छोटे बच्चों का बहुत ज्यादा सॉफ्ट डिंक्स पीना
  • स्मोकिंग
  • डायबीटीज, थायरॉइड जैसी बीमारियां
  • दवाएं (दौरे की दवाएं, स्टेरॉयड आदि)
  • विटामिन डी की कमी
  • महिलाओं में जल्दी पीरियड्स खत्म होना

ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis Symptoms) पहचानें कैसे

यूं तो आरंभिक स्थिति में दर्द के अलावा ऑस्टियोपोरोसिस के कुछ खास लक्षण नहीं दिखाई देते, लेकिन जब अक्सर कोई मामूली सी चोट लग जाने पर भी फ्रैक्चर होने लगे, तो यह ऑस्टियोपोरोसिस का बड़ा संकेत होता है। समस्या बढ़ने पर छोटी-सी चोट फ्रैक्चर की वजह हो सकती है। इनमें स्पाइन का फ्रैक्चर सबसे कॉमन है। 40-45 साल की उम्र के बाद फ्रैक्चर होने पर फ्रैक्चर के इलाज के साथ-साथ ऑस्टियोपोरोसिस की भी जांच करा लेनी चाहिए।

बीमारी ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) हो जाने पर क्या करें

ऑस्टियोपोरोसिस होने पर जंपिंग और स्किपिंग जैसी भारी एक्सरसाइज करना संभव नहीं होता। तो ऐसे में वॉक, एरोबिक्स, डांस तथा लाइट स्ट्रेचिंग करें। इसके अलावा योग भी ऑस्टियोपोरोसिस में अराम पहुंचाता है। जीवनशैली में भी सकारात्मक बदलाव लाएं।

वृद्धजनों में हड्डी के घनत्व को बचाए रखने में व्यायाम प्रमुख भूमिका निभाता है। आपको फ्रैक्चर होने की संभावना को कम करने हेतु सुझाए गए व्यायामों में हैं:

  • भार वहन करने वाले व्यायाम — पैदल चलना, दौड़ना, टेनिस खेलना, नृत्य करना।
  • खुले उठाए जाने वाले वजन, वजन की मशीनें, स्ट्रेच बैंड
  • संतुलन साधने वाले व्यायाम– ताई ची, योग
  • पतवारनुमा मशीनें

जिनमें गिरने का खतरा हो ऐसे व्यायाम ना करें। साथ ही, उच्च-दबाव डालने वाले व्यायाम जो वृद्धजनों में फ्रैक्चर कर सकते हों, उन्हें ना करें।

ऑस्टियोपोरोसिस को घटाने वाले योगासनों में हैं:

  • अधोमुख श्वानासन।
  • वीरभद्रासन
  • त्रिकोणासन
  • उत्कट कोणासन
  • सेतु बंधासन

संगीत और ध्यान

  • शांत रहें और ध्यान करें।
  • शांत बैठें और श्वास पर ध्यान एकाग्र करें।

Health से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे…

कृपया इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ अधिक से अधिक शेयर करे धन्यवाद !!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *