क्या है टाइफाइड फीवर के लक्षण – Typhoid Symptoms & Prevention Hindi main

यह भारत में अधिक प्रमाण में पाया जानेवाला एक खतरनाक संक्रामक रोग हैं। इसे हिंदी में मोतीझरा और मियादी बुखार भी कहते है जो सॉफ सफाई की कमी और दूषित चीज़े खाने से होता है। Janiye miyadi bukhar ke karan mein टाइफाइड सॅल्मोनेला नाम के बॅक्टीरिया के वजह से होता है. इस बॅक्टीरिया के बढ़ने के कारण से आपके शरीर मे दर्द का अनुभव आपको महसूस होता है. और लड़के लड़की या बच्चो के लिवर मे बॅक्टीरिया बढ़ जाने से टाइफाइड फीवर से तेज बुखार आता है.

टाइफाइड बुखार का कारण और लक्षण Causes & Symptoms Of Typhoid Fever(in hindi):

  • Typhoid बुखार में तेज बुखार होना, ठंड लगना.
  • Typhoid बुखार से गले में खराश, और सिर दर्द होना.
  • Typhoid बुखार का फैलाव संक्रमित पानी और खाद्यपदार्थ से होता हैं।
  • Typhoid बुखार दूषित पानी से नहाने से और ऐसे दूषित पानी से खाद्यपदार्थ धोकर खाने से भी फैलता हैं।
  • Typhoid बुखार में उल्टी, दस्त और पेट में दर्द होना।
  • Typhoid बुखार जूठा खाना खाने से भी फैलता हैं।
  • Typhoid बुखार में भूख का कम लगना.

सामान्यता टाइफायड 1 महीने तक चलता है, लेकिन कमजोरी ज्यादा होने पर ज्यादा समय ले सकता है। इस दौरान शरीर में बहुत कमजोरी आ जाती है और जिससे रोगी को सामान्य होने में लंबा समय लग सकता है।

टाइफाइड इलाज के घरेलू बचाउ और नुस्खे Typhoid Treatment in Hindi:

  1. लहसुन खाना चाहिए : लहसुन जो हमारे शरीर के कई रोगो से मुक्त रखने का कार्य करता है! लहसुन में कई तरह के आयुर्वेदिक औषधिय गुण मिलता है यह आपके लीवर को स्वच्छ साफ रखता है. रोजाना 5 से 6 दाना तले हुए लहसुन को खाने से आपकी तबीयत अच्छी रहती है।
  2. तुलसी से टाइफाइड के उपाय : टाइफाइड में तुलसी और सूरजमुखी के पत्तों का रस पीने से भी टाइफाइड बुखार से राहत मिलती है। अदरक और तुलसी की चाय टायफाइड कम करने में फायदेमंद है। थोड़ी अदरक, तुलसी के पत्ते, दालचीनी और काली मिर्च को अच्छे से पानी में उबाल ले और इसमें मिश्री डाल कर सेवन करे। तुलसी की चाय सर्दी और जुकाम के इलाज में भी असरदार है।
  3. पुदीना और अदरक : टाइफाइड में थोड़ा अदरक का पेस्ट एक कप सेब के जूस में मिलाकर इसे पीने से भी बुखार में आराम मिलता है। अदरक का छोटा सा टुकड़ा और कुछ पत्ते पुदीने के पीस कर एक कप पानी में मिला कर एक घोल बना ले और दिन में दो बार इस घोल को पिए इससे बुखार कम होने लगेगा।
  4. केले और शहद : टाइफाइड में एक पक्के हुए केले को अच्छी तरह पीस ले और 1 चम्मच शहद के साथ मिला कर दिन में 2 बार खाए।
  5. प्याज का रस : टाइफाइड में प्याज का रस थोड़ी थोड़ी देर में पीने से भी बुखार उतरने लगता है। इस नुस्खे से क़ब्ज़ से भी छुटकारा मिलता है।

टाइफाइड में ऐसे करें मरीज की देखरेख :

टाइफायड के दौरान तेज बुखार आता है। ऐसे में किसी कपड़े को ठंडे पानी में भिगोकर शरीर को पोंछे। इसके अलावा ठंडे पानी की पट्टियां सिर पर रखने से भी शरीर का तापमान कम होता है। कपड़े को समय समय पर बदलते रहना चाहिए। ये ध्यान रखना बेहद जरूरी है कि पानी बर्फ का ना हो। पट्टी रखने के ल‌िए साधारण पानी का इस्तेमाल करें।

टाइफाइड में ऐसे करें मरीज इलाज : Typhoid mein kya khana chaiye kya nahi 

टाइफायड का इलाज एंटी बायोटिक दवाओं के जरिये किया जाता है। शुरुआती अवस्था का टाइफायड एंटीबायोटिक गोलियों और इंजेक्शन की मदद से दो हफ्ते के अंदर ठीक हो जाता है। इसके साथ परहेज रखना बेहद जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *