Welcome to swyamupchar.in

अस्थमा(Asthma)


इन्सान को आजकल बहुत सी बीमारी होती हैं । उन्ही बीमारी में से एक अस्थमा आता हैं । यह बीमारी सांस से संबध रखता हैं इसे दमा भी कहते हैं ।

अस्थमा क्या होता है और कैसे होता हैं:-

अस्थमा स्वास संबंधी रोग हैं जब सांस लेने में कठिनाई पैदा होता तो यह बीमारी होती हैं । यह एक एलर्जी रोग हैं । अस्थमा एक ऐसी बीमारी है जो वायुमार्ग को प्रभावित करती है जो आपके फेफड़ों से हवा ले जाती है। जो लोग इस पुरानी स्थिति से पीड़ित हैं (लंबे समय तक चलने वाले या आवर्ती) को अस्थमा कहा जाता है। अस्थमा से  वायुमार्ग की अंदर की दीवारें सूजन या सूजन हो जाती हैं। यह सूजन या सूजन वायुमार्ग परेशानियों के प्रति बेहद संवेदनशील बनाता है और एलर्जी प्रतिक्रिया के प्रति आपकी संवेदनशीलता को बढ़ाता है। अस्थमा किसी भी आयु के इन्सान में हो सकता है । आज भारत में कितने लोग इस रोग के शिकार हैं ।

बहुत से लोग इनहेलर(Inhaler) यूज़  करते हैं । एक इनहेलर एक ऐसी उपकरण है जिसमें एक दवा होती है जिसे आप सांस लेने (श्वास) में लेते हैं। इनहेलर अस्थमा का मुख्य उपचार है।

अस्थमा के लक्षण:-

  1. सूखी खांसी होना
  2. बलगम वाली या बिना बलगम का खांसी होना
  3. सांस लेने में कठिनाई होना या सांस फूलना
  4. बेचैनी महसूस होना
  5. छाती में कडापन महसूस होना  हैं
  6. सांस लेते समय नाक बजना
  7. अधिक से अधिक पसीना आना
  8. थकावट महसूस होना

अस्थमा का  कारण:-

  1. शराब पीना और धूम्रपान करना
  2. तनाव के कारण
  3. मौसम के परिवर्तन के चलते
  4. खून की कमी होना
  5. मोटापा की समस्या से
  6. एलर्जी के चलते भी अस्थमा हो सकता हैं
  7. ज्यादा व्यायाम से भी अस्थमा होता हैं
  8. वायु pollution
  9. ठीक से नहीं खाना पीना या नींद पूरी नहीं होना भी अस्थमा का कारण होता हैं
  10. अधिक मिर्च -मसाले वाला भोजन, तले हुए पदार्थ तथा गरिष्ठ भोजन करने के कारण भी अस्थमा रोग हो जाता हैं.

अस्थमा के घरेलू उपचार या इलाज :-

  1. अस्थमा में सबसे ज़रूरी है खाने में एण्टीआक्सिडेंट आहार का इस्तेमाल करे । एण्टीआक्सिडेंट सीधा फेफड़ों में जाकर फेफड़ों की बीमारियों से और सांसों की बीमारियों से लड़ता हैं।
  2. अस्थमा का सबसे अच्छा उपाए अपने खाने पीने का ध्यान रखना । विशेषकर अगर गरम पानी पीते हैं तो यह एक अमृत जैसा काम करे गया ।
  3. तुलसी, शहद, मेथी, हल्दी और अदरक इन सब को मिलाकर इसका का सेवन करना चाहिये । इसको काढ़ा भी कहते हैं । यह अस्थमा रोगी के लिए बहुत ही उपयोगी हैं ।
  4. लहसुन शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद हैं । इसमें एंटीऑक्सीडेंट के गुण होते हैं । इसको दूध के साथ लेने से अस्थमा में बहुत राहत मिलती हैं ।
  5. अंजीर सांसो से संबंधित कई समस्या को दूर करता हैं । इसको रात भर भिगो कर सुबह खाली पेट इसका सेवन करने से अस्थमा जैसी बीमारी दूर होती हैं ।
  6. अस्थमा के मरीज को कच्चे प्याज का सेवन करना चाहिए इसके सेवन से सांस लेने वाली नली खुल जाती हैं और जिससे सांस लेने में आसानी हो जाता हैं ।
  7. आज कल pollution बहुत चलती हैं। इसलिए जब भी घर से बाहर निकलते हैं तो मुंह में मास्क (Mask) डाल के जाना चाहिए इससे बहार का pollution न आ सके।

 

 

 

 

 

Loading...

Have any Question or Comment?

Leave a Reply

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 613 other subscribers

%d bloggers like this: