Welcome to swyamupchar.in

डेंगू क्या है(What is dengue)


आजकल एक बीमारी बहुत चली हैं, जिसका नाम डेंगू (Dengue )हैं । यह बहुत ही खतरनाक रोग हैं ।

 

डेंगू क्या है और कैसे होता है

 

डेंगू भी एक तरह का वायरल बुखार है। जो की महामारी के रूप में जाना जाता हैं । डेंगू संक्रमित मादा एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से फैलता है। अकेला एक संक्रमित मच्छर ही अनेक लोगों को डेंगू रोग से ग्रसित कर सकता है। डेंगू होने पर मनुष्य के  प्लेट लेट्स(platelets) की संख्या तेजी से कम होने लगते हैं । रक्त चाप काफी कम हो जाता है। यदि समय पर उचित चिकित्सा ना मिले तो रोगी कोमा में चला जाता है या फिर उसकी मौत भी हो सकती हैं । भारत में हर साल डेंगू से कितने लोगो की मौत हो जाती हैं क्यूंकि उनका सही से इलाज नहीं हो पाता हैं । डेंगू होने पर हमें तुरंत डॉक्टर से परामर्श कर लेना चाहिए । डेंगू का पता चलने के साथ ही इसका इलाज कराना चाहिए।

गर्मी और बारिश के मौसम में यह बीमारी तेजी से पनपती है । डेंगू के मच्छर  हमेशा साफ़ पानी में पनपते है  जैसे छत पर लगी पानी की टंकी, घडो और बाल्टियों में जमा पीने का पानी, कूलर का पानी, गमलो में जमा पानी आदि । वही दूसरी ओर मलेरिया के  मच्छर  हमेशा गंदे पानी में पैदा होते है । डेंगू के मच्छर  ज्यादातर हमेशा दिन में काटते है ।

 

डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms in Hindi)

 

  • तेज बुखार होना
  • मांस पेशियों एवं जोड़ों में भयंकर दर्द
  • सर दर्द
  • आखों के पीछे दर्द
  • मन खराब होने लगता है
  • जी मिचलाना
  • उल्टी होना
  • दस्त लगना
  • शरीर पर लाल-लाल दाने(रैश) दिखाई देना है
  • थकावट,
  • भूख न लगना और कमजोरी

 

डेंगू से बचने का घरेलू उपाय या इलाज:-

 

  1. गिलोय डेंगू के लिए रामबाण इलाज हैं। इसके सेवन से प्लेट लेट्स की संख्या बहुत तेजी से बढ़ती हैं । एक तरह का अमृत हैं गिलोय डेंगू जैसे रोगी के लिए । डेंगू क साथ -साथ यह बहुत सी बीमारी को भी दूर करता हैं। गिलोय एक रसायन है, यह रक्तशोधक, ओजवर्धक, ह्रुदयरोग नाशक है।
  2. पपीते की पत्तियों को डेंगू के बुखार के लिए सबसे फायदेमंद दवा कही जाती है। पपीते की पत्तियों में मौजूद पपेन नामक एंजाइम शरीर की पाचन शक्ति को ठीक करता है, साथ ही शरीर में प्रोटीन को घोलने का काम करता है। इसके अलावा इस जूस से प्लेटलेट्स की मात्रा तेजी से बढ़ती है। डेंगू के उपचार के लिए पपीते की पत्तियों का ताजा जूस निकाल कर एक-एक चम्मच करके रोगी को दें।
  3. डेंगू के उपचार में बकरी का दूध बहुत उपयोगी है, क्योंकि यह सीधे प्रतिरक्षा प्रणाली को संशोधित करता है, ऊर्जा देता है, शरीर को हाइड्रेट करता है और आवश्यक पोषक तत्वों की आपूर्ति करता है। बकरी का दूध प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ाने और शरीर की रोग को प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने में दवा का काम करता हैं ।
  4. डेंगू बुखार के दौरान विटामिन- सी, संतरा या मौसमी अधिक मात्रा में लेनी चाहिए। इससे शरीर का सुरक्षा चक्र मजबूत होता है।
  5. डेंगू के समय जितना ज्यादा पानी का सेवन करे गए उतना ही हमारे शरीर के लिए फैयदेमद हैं

 

 

Loading...

Have any Question or Comment?

Leave a Reply

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 613 other subscribers

%d bloggers like this: