Welcome to swyamupchar.in

लू लगने का कारण और बचाव (The reason and deficiency of loo)


मौसम के चलते कभी कभी इंसान बीमार पर जाता है । उन्ही मौसम मैं से एक गर्मी आता  हैं।  गर्मी  के मौसम में लू लगना आम बात हैं।

लू क्या है और कैसे होता है:-

भारत में गर्मियों का मौसम आते ही तापमान का मिजाज बिगड़ने लगता है। पश्चिम से पूरब दिशा में गरम हवा बहने लगती हैं । उसी हवा को लू कहते हैं । इस तरह की हवा अप्रैल से  जून तक चलती हैं। इसका ज्यादा असर उतर भारत पर पड़ता हैं । लू का तापमान 40° सेंटिग्रेड से  50°सेंटिग्रेड तक जा सकता हैं । यह गरम हवाएं व्यक्ति के लिए बहुत ही खतरनाक होती हैं। विशेषकर निर्बल या कमजोर व्यक्तियों, बच्चों और वृद्धों को इनका खतरा अधिक रहता है । लू के चलते बहुत से लोगो की मौत भी हो जाती हैं । लू लगना गर्मी के मौसम की बीमारी है। लू लगने से शरीर में पानी की कमी हो जाती हैं । लू लगना एक ऐसा रोग है जिससे प्रत्येक व्यक्ति को हमेशा सावधान रहना चाहिये। इसका प्रधान कारण अत्यधिक गर्मी में बाहर निकलना, सिर पर सूर्य की तीव्र किरणों को आने देना, तेज धूप अथवा गर्म हवा में बिना सिर ढके आना- जाना, तेज गर्मी के समय हवा का बन्द हो जाना है।

 

लू  के लक्षण:-

  •  लू लगने से चक्कर आने लगते हैं और व्यक्ति बेहोश होने लगते हैं,
  •  श्वास लेने में कठिनाई उत्पन्न होने लगती है,
  •  नब्ज की गति बढ़ जाती है,
  • तीव्र सिर दर्द, बदन दर्द और सम्पूर्ण शरीर में कमजोरी का एहसास होने लगता है,
  • मन खराब होने लगता है
  • तेज बुखार होना
  • उल्टियां भी आ सकती हैं
  • शरीर में पसीना नहीं आता और त्वचा खुश्क हो जाती है,
  • थकावट, भूख न लगना
  • दस्त लगना
  • हाथ और पैरों के तलुओं में जलन-सी होती रहती है
  •  दम फूल जाता है

 

लू से बचने के लिए उपाय:-

  1. गर्मी के दिनों में भूखे नहीं रहना चाहिए । जब भी घर से बाहर निकलना हो भरपेट भोजन करके निकलना चाहिए ।
  2. गर्मी के दिनों में बार-बार पानी पीते रहना चाहिए ताकि शरीर में पानी की कमी नहीं होने पाए। पानी में नींबू व नमक मिलाकर दिन में दो-तीन बार पीते रहने से लू नहीं लगती है । पानी के अतिरिक्त इस मौसम में शरबत, गन्ने का रस, लस्सी आदि का भी सेवन करना चाहिए।
  1. लू से बचने के लिए दोपहर के समय बाहर नहीं निकलना चाहिए। अगर बाहर जाना ही पड़े तो सिर व गर्दन को तौलिए लेना चाहिए ।
  1. गर्मी में जब भी घर से बाहर निकलें, आंखों पर धूप का चश्मा(Sunglasses) लगाकर निकलें, यह धूप से राहत और आंखों को ठंडक देता हैं।
  2. अचानक ठंडी जगह से एकदम गर्म जगह ना जाएं। खासकर एसी में बैठे रहने के बाद तुरंत धूप में  ना निकलें।

 

लू लगने पर उपचार:-

  1. आम का पना या केरी हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद हैं । इसके सेवन करने से लू से रहत मिलती हैं ।
  2. बुखार तेज होने पर रोगी को ठंडी खुली हवा में आराम करवाना चाहिए।
  3. कच्चे प्याज का सेवन करने से भी लू से राहत मिलती है या खाने के साथ कच्चे प्याज का सलाद खाने से भी लू से राहत मिलती है।
  4. नींबू का पानी, गन्ने का रस, मौसमी या संतरा का जूस, बेल का शरबत या बिटामिन सी जैसी मात्रा अधिक से अधिक सेवन करना चाहिये यह हमारे शरीर के लिए बहुत उपयोगी हैं।
  5. तरबूज, खरबूज ,खीरा जैसे फल का हमेशा सेवन करना चाहिए यह हमारे शरीर की पानी की कमी को दूर करता हैं और लू से राहत भी देता हैं।

Loading...

Have any Question or Comment?

Leave a Reply

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 613 other subscribers

%d bloggers like this: