Welcome to swyamupchar.in

साइनस के लक्षण, कारण, इलाज पे क्या है हमारे विशेषज्ञ की राय(Know the expert,causes of sinus, symptoms and treatment)


तेज और भाग-दौड़ भरी जिंदगी में लोग खुद पर ध्यान देने में इतना वक्त नहीं लगाते जितना वो टेंशन और स्ट्रेस में गुजारते हैं   । जिसके कारण उन्हें अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है और इसका सीधा असर उनकी हेल्थ पर  पड़ता हैं साथ -साथ कई बीमारियों का शिकार होते हैं उन्ही मैं से एक साइनस हैं ।

साइनस क्या हैं और कैसे होता हैं (What is sinus and how it happens) :-

साइनस नाक में होने वाला एक रोग है । इस रोग में नाक की हड्डी भी बढ़ जाती है या तिरछी हो जाती है, जिसकी वजह से सांस लेने में परेशानी होती है। जो व्यक्ति इस रोग से ग्रसित होता है उसे ठंडी हवा, धूल, धुआं आदि में परेशानी महसूस होती है। कुछ लोगों को हमेशा सर्दी-जुकाम की शिकायत रहती है लेकिन इनमें से ज्यादातर मामले साइनोसाइटिस यानी साइनस के होते हैं। साइनस दरअसल मानव शरीर की खोपड़ी में हवा भरी हुई कैविटी होती है, जो हमारे सिर को हल्कापन व श्वास वाली हवा लाने में मद्द करती है। श्वास लेने में अंदर आने वाली हवा इस थैली से होकर फेफड़ों तक जाती है। यह थैली, हवा के साथ आई गंदगी यानि धूल और दूसरी तरह की गंदगियों को रोकती है। जब व्यक्ति के साइनस का मार्ग रूक जाता है, तो बलगम निकलने का मार्ग भी रूक जाता है, जिससे साइनोसाइटिस नामक बीमारी होती है।

साइनस नाक से जुड़ी एक गंभीर समस्या हैं साइनस की बीमारी सर्दी-झुकाम से शुरू होती हैं और फिर तेजी से बैक्टीरिया , वायरल या फंगल के साथ तेजी से बढ़ती हैं ।

अगर सर्दी-झुकाम दो या तीन में ठीक हो गया तो अच्छी बात हैं मगर सर्दी-झुकाम बाहर न निकलकर अंदर ही जम गया है जोकि आगे चलकर साइनस बन सकता है। साइनस आमतौर पर एक वायरस के कारण होता है और अक्सर अन्य ऊपरी श्वसन लक्षणों के बाद भी जारी रहता है। कुछ मामलों में, बैक्टीरिया, या शायद ही कभी कवक, साइनस संक्रमण का कारण बन सकता है।

 

साइनस का लक्षण (Symptom of Sinus):-

 

  • कान, नाक और दांतों में साइनस में दबाव या दर्द  होना
  • गले में खराश
  • बुखार आना
  • चेहरे पर सुजन रहना
  • नाक में भरापन की भावना होना
  • खांसी होना या बलगम वाली खांसी निकलना
  • नाक से जल निकासी होना
  • सिर में  दर्द होना
  • नाक से कफ निकलना और बहना
  • कफ जमना

साइनस होने पर घरेलू उपाय या इलाज (Home remedies or treatments on sinus):-

  1. भाप लेने से बंद नाक खुलती हैं। साथ ही साथ यह साइनस के प्रेशर और सिरदर्द को भी कम करता हैं। यह एक अमृत की तरह काम करता हैं।
  2. साइनस की समस्या के इलाज के लिए कुल्ला भी एक अच्छा माध्यम है। 10 मिनिट तक गर्म पानी और नमक के साथ कुल्ला शुरू करने से साइनस में रहत मिलती हैं ।
  3. साइनस (Sinus) का प्राकृतिक उपाय गाय का घी है जो घर पर साइनस इलाज करने के लिए उपाय में काफी प्रभावी माना जाता है
  4. साइनस के मरीजों को धूल से काफी परेशानी हो सकती है। अपने घर का वातावरण साफ रखिये।
  5. प्याज और लहसुन की तरह तीखे खाद्य पदार्थों साइनस के इलाज में अधिक फायदेमंद साबित होते है।
  6. सेब का सिरका के सेवन से साइनस जल्दी ठीक हो जाता हैं ।
  7. तुलसी, शहद, मेथी, हल्दी और अदरक इन सब को मिलाकर इसका का सेवन करना चाहिये । इसको काढ़ा भी कहते हैं । यह साइनस रोगी के लिए बहुत ही उपयोगी हैं ।
  8. ड्राई फ्रूट्स की तासीर गर्म होती है । इसके सेवन से साइनस में होने वाली ठण्ड से राहत देता हैं ।

 

साइनस होने पर क्या नहीं खाये (Do not eat when you sinus)

  1. शराब और धूमपान का न करें सेवन
  2. ठंडे पदार्थ से बनाएं दूरी जैसे आइसक्रीम, कोल्ड कॉफी, कोल्ड्रिंक, जूस इत्यदि
  3. कैफीन युक्त ड्रिंक्स, चाय-कॉफी और चॉकलेट का सेवन साइनस की बीमारी कभी नहीं सेवन करना चाहिए।
  4. बासी भोजन का सेवन न करे
Loading...

Have any Question or Comment?

Leave a Reply

Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 613 other subscribers

%d bloggers like this: